अक्षर – परिभाषा, भेद, प्रकार, उदाहरण

आज हम इस लेख में जानेंगे की अक्षर किसे कहते है एवं इसके प्रकार कितने है। अक्षर का सामान्य भाषा में बात करे तो इसका अर्थ ‘‘ किसी भी भाषा में लिखे गये शब्दों को अक्षर कहा जाता है। शब्दों का पर्यावाची भी अक्षर है।  ’’ 

हमारे पढने व लिखने के अनुसार तो अक्षर एक ही होती है लेकिन व्याकरण के अनुसार अक्षर को कई अनेक भागों में बांटा गया है। इसलिए हमें अक्षर क्या है इसे समझना चाहिए। आज का हमारा यह लेख आपको इस के बारे में अच्छे से समझायेगा की अक्षर क्या है एवं इसके कितने प्रकार होते है। 

अक्षर क्या है एवं इसके प्रकार के बारे में इस लेख में आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे। हम उम्मीद करते है की आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा। जब हम बचपन में स्कूल में पढते थे तब से ही व्याकरण के बारे में पढते आ रहे है। 

इसके बावजूद भी ऐसे कई बिंदु है जो हमें अक्षर व व्याकरण के संदर्भ में समझ नही आते है। हमारे इसी लेख में उन्ही बिन्दुओं को समझाने का प्रयास कर रहे है। चलिये जानते है की अक्षर क्या है और इसके कितने प्रकार है –

अक्षर की परिभाषा (Akshar ki Paribhasha)

अक्षर – ऐसी ध्वनि या उन ध्वनि समूह जिनका उच्चारण एक ही साँस में हो जाता है, वे सभी अक्षर कहलाते है जैसे – अ , आ , क , ख , ग , आदि।

शब्द – हिन्दी ही नही किसी भी भाषा में एक या एक से अधिक वर्णों से बनी हुई कोई भी स्वतंत्र सार्थक ध्वनि, शब्द कहलाती है। ऐसे शब्द जो निश्चित अर्थ को प्रकट करने वाले वर्ण-समूह होता है, उसे शब्द कहते हैं जैसे – राम, घर, पेड़, आदि।

अक्षर की विशेषताएं

  • अक्षर का मुख्य संबंध किसी भी भाषा के उच्चारण पक्ष से है।
  • किसी भी भाषा में अक्षर एक प्रकार का स्वनिम का भी हो सकता है , जैसे- ‘ आ ‘ और एक से अधिक स्वनिमों  का भी हो सकता है, यह अक्षर की एक विशेष विशेषता है जैसे – राम , नाम , काम , रात आदि।
  • एक या एक से अधिक अक्ष्रों से मिलकर एक शब्द बनता है। किसी भी एक अक्षर के बाद रात , नाम , काम आदि, हिन्दी भाषा में दो अक्षरों के शब्द – गीता , सीता , काला , माला आदि। 
  • हिन्दी भाषा में एकाधिक अक्षर के कुछ मुख्य शब्द जों हर अक्षर के बीच थोड़ा सा मौन होता है , जिसे भाषा विज्ञान की शब्दावली में ‘ संगम ‘ नाम दियार गया है वह इसे विराम भी कहा जाता है। 
  • इसके उदाहरण समझे तो जैसे – ‘ खाया ‘ शब्द में ‘ खा ‘ और ‘ या ‘ मैं थोड़ा सा ‘ संगम ‘ या ‘ विराम ‘ है।

स्वर में अक्षर

हिन्दी में जितने भी स्वर है वे स्वयं भी एक अक्षर के रूप में ही होते है, हिन्दी के स्वर को अक्षर भी कहा जा सकता है जैसे – अ  , आ , इ , ई , उ  ,ऊ , ए , ऐ , ओ , औ , अं , अः यह मुख्य स्वर है जो अक्षर है। 

व्यंजन के रूप में अक्षर 

हिन्दी के वे व्यंजन को एक अक्षर के रूप में भी होते, अक्षरों से ही किसी भी भाषा का शुभारंभ होता है, ऐसे व्यंजनों की सूची में यह यह अक्षर शामिल है जैसे 

  • क , ख , ग , घ , ड 
  • च , छ , ज , झ , ञ 
  • ट , ठ , ड , ढ , ण 
  • त , थ , द , ध , न 
  • प , फ , ब , भ , म 
  • य , र , ल , व
  • श , ष , स , ह 
  • क्ष , त्र , ज्ञ 

अक्षर के कुछ उदाहरण

  • एक अक्षर के शब्द : आ,
  • दो अक्षर के शब्द  : प्रेम, उर्दू,
  • तीन अक्षर के शब्द : पहर,
  • चार अक्षर के शब्द : आधुनिक, कठिनाई,
  • पाँच अक्षर के शब्द : अव्यावहारिकता, अमानुषिकता

निष्कर्ष

यहाँ हमने अक्षर क्या है एवं इसके साथ ही गणित के सभी प्रकारों की जानकारी दी है, अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें। अगर अक्षर से जुड़ा किसी भी तरह का प्रश्न है तो आप यहाँ कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हमें उम्मीद है की आप हमारा यह मेहनत भरा लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *